Search

Omi Tales

The Chases Of Mirage

Tag

poetry

बेसब्र सी है आँखें क्योंकि

बेसब्र सी है आँखें मेरी,
की न देखा तुझे अरसो से।

धून्धली सी तस्वीर तेरी
की मिट न जाये मेरी यादों से।
फिर दिखा जा अपने चहरे को,
जो न देखा मेने बरसो से,

बेसब्र सी है आँखें मेरी,
की न देखा तुझे अरसो से।

यूँ तो उतारता रहता हूँ तेरा चहरा
यादों में झांक-झांक के,
मैं सहमां हूँ इस तस्वीर में कुछ कमी देख के,
आ स्पर्श कर जा मेरी यादें अपने उँगलियों से,
जो मेंरे बालों में फेरी नही तूने बरसो से,

बेसब्र है आँखें में मेरी,
की न देखा तुझे अरसो से।

Advertisements

बचपन की खुशियाँ

हम भूलते गए वो बचपन की खुशियाँ
जो मिलती थी हमें छुट्टियों में नानी के घर पे,
दोस्तों के कन्धों पे लटके हुए बस्ते की
चिटकनी खोलके,
पेंसिल को दोनों तरफ छिलने पे,
हम भूलते गए वो बचपन की खुशियाँ

हम भूलते गए वो खुशियाँ जो आती थी
चेहरे पे सर्दी खत्म होने के बाद
चलते हुए पंखे के धुल के साथ

हम भूलते गए वो बचपन की खुशियाँ
जो मिलती थी हमे अपने जुराब घुटनो तक पहनने पे
हम भूलते गए वो बचपन की खुशिया

 

 

 

Blog at WordPress.com.

Up ↑