Search

Omi Tales

The Chases Of Mirage

Tag

angry

हिसाब लगाया तो मैं घाटे में था

हिसाब लगाया तो मैं घाटे में था,

प्यार किया तो जुदाई में था,

नौकरी की तो बॉस के दबाव में था,

वसंत आया तो मैं घर में था,

सावन आया तो मैं कीचड में था,

दोस्तों से मिला तो याद आया मैं उधारी में था,

कल जब शाम मैं अकेलेपन में था,

तब सोचा और हिसाब लगाया तो मैं घाटे में था!

 

कल जो एक दोस्त आ गई घर पर,

तो पड़ोस की औरतों की बातों में था,

हर चीज़ मिली मुझको दोस्त, प्यार और पैसे जब नीन्द खुली तो पता चला मैं सपने में था,

किसी ने  कंधे पर हाथ नहीं रखा जब मैं दर्द में था,

कल जब हिसाब लगाया तो मैं घाटे में था!

 

Advertisements

जब वो आ जाए तो कहना

जब वो आ जाए तो कहना

की हम उनके हो चुके हैं

अपनी साँसों की वसीयत उसके नाम कर चुके हैं

जब वो आ जाए तो कहना,

की हम उसके हो चुके है।
कह देना उनको की उनके गीले बालो के छीटें गिरी है मेरे दिल पर

और हम सोंधी सी खुशबू हो चुके हैं,

की अब हम उनके हो चुके हैं।

वक्त की साज़िस है कि वो मिलता नही हमसे,

तुमको मुझसे मिलाने के लिए,

वक्त के पीछे हम इतने भागे तेरे लिए

की अब हम घडी की सुई हो चुके।

मेरी हाथों की ये जो लकीरें है,

वो अब हमारी सरहद हो चुके,

इसी लिए कभी हम उन तक न जा सके

और न वो हम तक आ सके,

वो आ जाए तो कहना,

हम उनके हो चुके।

हम उनके हो चुके।।

बदनाम हूँ मैं तो क्या बुरा हूँ मैं

बदनाम हूँ मैं तो क्या बुरा हूँ मैं?
मन में जो है वो कह देता हूँ तो क्या बुरा हूँ मैं?

जिसने छुरे घोंपे पीठ पे तो अगर शब्दो से उसका दिल तोड़ देता हूँ तो क्या बुरा हूँ मैं?

तुझे पता है तू ही है मेरे पतन का कारण,
अपनी बर्बादियों के किस्से में अगर ले लिया तेरा नाम तो क्या बुरा हूँ मैं?

बदनाम हूँ तो क्या बुरा हूँ मैं?
मन में जो बात है वो कह देता हूँ तो क्या बुरा हूँ मैं?

Blog at WordPress.com.

Up ↑