हिसाब लगाया तो मैं घाटे में था,

प्यार किया तो जुदाई में था,

नौकरी की तो बॉस के दबाव में था,

वसंत आया तो मैं घर में था,

सावन आया तो मैं कीचड में था,

दोस्तों से मिला तो याद आया मैं उधारी में था,

कल जब शाम मैं अकेलेपन में था,

तब सोचा और हिसाब लगाया तो मैं घाटे में था!

 

कल जो एक दोस्त आ गई घर पर,

तो पड़ोस की औरतों की बातों में था,

हर चीज़ मिली मुझको दोस्त, प्यार और पैसे जब नीन्द खुली तो पता चला मैं सपने में था,

किसी ने  कंधे पर हाथ नहीं रखा जब मैं दर्द में था,

कल जब हिसाब लगाया तो मैं घाटे में था!

 

Advertisements