ऐ हवा कुछ दूर तो चल
कुछ देर तो चल।

जो लड़की आ रही है इस तरफ
अपने चहरे को ज़ुल्फ़ों से ढके
तू उसके पास से निकल
उडा दे उसकी लटें और आँचल,

ऐ हवा कुछ दूर तो चल,
कुछ देर तो चल।

मैने जो पत्थर फेका पानी में
कुछ तरंगें बनी है उस से
पर लगता नही की वो काबिल है
उस कागज़ के नाव को उस पार ले जाने में,
ऐ हवा मेरा एक काम तो कर
इस नाव को उस पार ले चल,

ऐ हवा कुछ दूर तो चल,
कुछ देर तो चल।

अब तुझे मैंने ये काम दिया ही है
तो बता दूँ कि नाव पे कुछ लिखा है मैंने
जो उस पार बैठा है उसके लिए,
तो गुजारिश है तुझसे की धीरे चल।

ऐ हवा कुछ दूर तो चल,
कुछ देर तो चल।

Advertisements