हम भूलते गए वो बचपन की खुशियाँ
जो मिलती थी हमें छुट्टियों में नानी के घर पे,
दोस्तों के कन्धों पे लटके हुए बस्ते की
चिटकनी खोलके,
पेंसिल को दोनों तरफ छिलने पे,
हम भूलते गए वो बचपन की खुशियाँ

हम भूलते गए वो खुशियाँ जो आती थी
चेहरे पे सर्दी खत्म होने के बाद
चलते हुए पंखे के धुल के साथ

हम भूलते गए वो बचपन की खुशियाँ
जो मिलती थी हमे अपने जुराब घुटनो तक पहनने पे
हम भूलते गए वो बचपन की खुशिया

 

 

 

Advertisements